National News

कैसे एक रेडियो स्टेशन बिना स्मार्टफोन के गरीब छात्रों को शिक्षित करने में मदद करती है!

कैसे एक रेडियो स्टेशन बिना स्मार्टफोन के गरीब छात्रों को शिक्षित करने में मदद करती है! 1

कोविड-19 के कारण पिछले एक साल से सबसे अधिक असर बच्चों की पढ़ाई पर पड़ा है, बहुत से स्कूल स्मार्ट फोन के जरिए बच्चों को पढ़ा रहे हैं।

लेकिन ऐसे बहुत से बच्चे हैं, जिनके पास स्मार्ट फोन ही नहीं है। ऐसे में नासिक के कम्युनिटी रेडियों ने इसका भी हल निकाल लिया है।

महाराष्ट्र के नासिक का कम्युनिटी रेडियो ‘रेडियो विश्वास’ अध्यापकों की मदद से बच्चों के लिए कार्यक्रम रिकॉर्ड कर हर दिन उसका प्रसारण करता रहा, जिससे बच्चों की पढ़ाई पर कोई असर न पड़े।

रेडियो विश्वास को सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा स्थापित राष्ट्रीय सामुदायिक रेडियो पुरस्कारों के 8वें संस्करण में दो पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।

रेडियो विश्वास 90.8 एफएम ने “सस्टेनेबिलिटी मॉडल अवार्ड्स” श्रेणी में पहला पुरस्कार और “थीमैटिक अवार्ड्स” श्रेणी में अपने कार्यक्रम कोविड-19 के काल में ‘एजुकेशन फॉर ऑल’ के लिए दूसरा पुरस्कार जीता है।

रेडियो विश्वास के स्टेशन निदेशक डॉ. हरि विनायक कुलकर्णी बताते हैं, “ऐसे समय में जब स्कूल बंद हो गए, बहुत से ऐसे परिवार हैं, जिनके पास बच्चों को पढ़ाने के लिए स्मार्ट फोन नहीं हैं, उनकी पढ़ाई पर कोई असर न पड़े इसलिए हमने ‘शिक्षण सर्वांसाठी’ कार्यक्रम शुरू किया।”

लोगों में बीच जाकर उन्हें जागरूक भी करते हैं।
रेडियो विश्वास, विश्वास ध्यान प्रबोधिनी और अनुसंधान संस्थान, नासिक, महाराष्ट्र द्वारा संचालित होता है। इस संस्थान की शुरुआत से ही इस रेडियो स्टेशन से प्रसारण किया जा रहा है। स्टेशन प्रतिदिन 14 घंटे का प्रसारण करता है।

‘शिक्षण सर्वांसाठी’ कार्यक्रम के बारे में डॉ. कुलकर्णी कहते हैं, “शिक्षण सर्वांसाठी हिंदी में जिसका अर्थ सभी के लिए शिक्षा होता है, शुरू करने के लिए हमने 150 शिक्षकों की मदद ली, इसमें बहुत से किसी संस्था से जुड़े हैं और कई किसी स्कूल में शिक्षक हैं।

हमने तीसरी कक्षा से लेकर दसवीं कक्षा तक सभी विषयों के पाठ्यक्रम को रिकॉर्ड किया और अलग-अलग समय पर इसे प्रसारित किया।”

इस रेडियो स्टेशन से जिला परिषद और नासिक नगरपालिका स्कूलों में पढ़ने वाले सभी छात्रों के लिए कार्यक्रम प्रसारित किए जाते हैं, कार्यक्रम का प्रसारण विभिन्न भाषाओं अर्थात हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, संस्कृत में किया गया।

रेडियो विश्वास की कार्यक्रम समन्वयक रुचिता ठाकुर बताती हैं, “कार्यक्रम के बारे में हम घर-घर जाकर लोगों को जागरूक भी करते थे, ताकि वो बच्चों को रेडियो के जरिए पढ़ा पाएं, लोगों का अच्छा रिस्पॉन्स भी मिला।”

कम्युनिटी का रेडियो का कार्यक्रम जून से दिसम्बर 2020 तक चला था, अभी भी दिन में तीन बार बच्चों के लिए कार्यक्रम का प्रसारण किया जाता है।

यही नहीं रेडियो विश्वास ने रिकार्ड किए हुए पाठ्यक्रम को छह अन्य कम्युनिटी रेडियो के साथ साझा किया, ताकि वे भी अपने रेडियो चैनलों के माध्यम से उन्हें प्रसारित कर सकें।

डॉ. कुलकर्णी कहते हैं, “हमें खुशी है कि हम पूरे महाराष्ट्र के छात्रों की मदद कर सके क्योंकि छह सामुदायिक रेडियो स्टेशनों ने इस सामग्री को अपने-अपने शहरों में प्रसारित करने के लिए हमसे संपर्क किया है।”

वासिम जिले के स्वतंत्रता कम्युनिटी रेडियो, सतारा जिले के मनदेशी तरंगवाहिनी कम्युनिटी रेडियो, सांगली जिले के येरला वाणी कम्युनिटी रेडियो, वर्धा जिले रेडियो एमजीआईआरआई कम्युनिटी रेडियो, वासिम जिले के रेडियो वत्सागुल्म कम्युनिटी रेडियो और बारामती के शारदा कृषि वाहिनी कम्युनिटी रेडियो के माध्यम से बच्चों के लिए कार्यक्रम का प्रसारण किया गया।

साभार- गांव कनेक्शन डॉट कॉम

This is unedited, unformatted feed from hindi.siasat.com – Visit Siasat for more

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: