National News

मातृभूमि का प्यार आस्था का हिस्सा है : शाह खालिद मिस्बाही

कम्हरिया:मातृभूमि के प्रति प्रेम की अभिव्यक्ति को लेकर विभिन्न धर्मों के भारत की भूमिका में मुस्लिम समुदाय के संबंध , एक भ्रम गुमान किया जाता है,
इस मुद्दे पर बात करते हुए, कम्हरिया यूथ कमेटी के अध्यक्ष , शाह खालिद मिस्बाही ने कहा:
निश्चित रूप से, होली कुरान मे प्रकट है कि मातृभूमि का प्यार आस्था का हिस्सा है, और बताया कि कुरान मे है : वह (ईश्वर) आपको वापस वहीं ले आयेगा जहां आप मुड़ना चाहते हैं। (यानी मक्का में)।
जब पैगंबर मोहम्मद मक्का से मदीना चले गए, तो वह मक्का के पहाड़ों पर खड़े हो गए और कहा, “ये मेरे मक्का! अगर आपके लोगों ने मुझे परेशान नहीं किया होता, तो मैं आपको कभी नहीं छोड़ता। ”(मजमऊल-फवाइद, खंड 1, पृष्ठ 195)

इस हदीस से पता चलता है कि पवित्र पैगंबर अपनी मातृभूमि , मक्का शहर से कितना प्यार करते थे। इसी तरह, एक और वर्णन है कि जब पवित्र पैगंबर ने मदीना को अपना शहर बनाया लिया, तो वे दूवा में कहते थे :कि ये अल्लाह! हमारे अंदर मदीना की इतना समान प्रेम पैदा कर जितना तू मक्का के लिए पैदा किया है और हमारे लिए मदीना की जलवायु को सही कर दे|
” (बुखारी, खंड 1)
जिस तरह से सभी धर्मों और समाजों के लोगों ने अपने खून से इस मातृभूमि को सींचा है, उसी तरह अशफाकुल्लाह खान, मौलवी किफायतुल्ला, मौलाना अबुल कलाम आजाद, फजल हक खैराबादी के रूप में बहुत से मुस्लिम धर्म गुरू, इस मातृभूमि के लिए अपना अनमोल बलिदान पेश किया है। हम सभी को सलाम पेश करते हैं और स्वतंत्रता दिवस, हमें इसी की याद दिलाता है|

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
%d bloggers like this: