National News

मुस्लिम शख्स ने दी हनुमान मंदिर निर्माण के लिए जगह!

मुस्लिम शख्स ने दी हनुमान मंदिर निर्माण के लिए जगह!

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से एक दिलचस्प कहानी सामने आई है। यहां एक मुस्लिम शख्स ने हनुमान मंदिर के लिए अपनी जमीन गांव वालों को दान कर दी।

 

लोकमत हिन्दी पर छपी खबर के अनुसार इ स जमीन की कीमत 80 लाख से एक करोड़ रुपये के बीच आंकी जा रही है।

 

आज के दौर पर जब हर विषय में हिंदू-मुस्लिम और सांप्रदायिकता का एंगल खोजने और उसे भुनाने की होड़ लगी है, एक शख्स ने अनोखी मिसाल पेश की है।

 

बेंगलुरु के एक मुस्लिम व्यक्ति ने एक हनुमान मंदिर के पुनर्निमाण के लिए करीब 80 लाख से एक करोड़ के बीच की जमीन दान कर दी। इस शख्स ने 1.5 गुंतास जमीन दान में दी है। एक एकड़ में 40 गुंतास होते हैं।

 

डेक्कान हेराल्ड की रिपोर्ट के अनुसार कार्गो बिजनेस से जुड़े 65 साल के एचएमजी बशा ने मंदिर के लिए अपनी जमीन दान कर कई लोगों के दिल जीत लिए हैं।

 

बेंगलुरु के काडूगोडी के बेलाथूर के रहने वाले बशा परिवार के पास होसाकोटे तालुक के वालागेरेपुरा में एक छोटे हनुमान मंदिर से ठीक करीब 3 एकड़ से ज्यादा जमीन है।

 

तीन दशक से ज्यादा समय से यहां श्रद्धालु पूजा के लिए आते थे। हालांकि बशा को ऐसा महसूस हुआ कि वहां जगह कम है और श्रद्धालुओं को मंदिर में कम जगह होने से काफी तकलीफों का सामना करना पड़ता है।

 

बशा के अनुसार, ‘इसी दौरान गांव वालों ने मंदिर के पुनर्निमाण की भी योजना बनाई लेकिन उनके पास पर्याप्त जगह नहीं थी। इस बारे में जब मुझे पता चला तो मैंने तीन एकड़ में से 1.5 गुंतास जमीन दान करने का प्रस्ताव दिया।’

 

यह जमीन बेहद अहम स्थान पर स्थित है। इसके ठीक पास से ही ओल्ड मद्रास रोड भी गुजरती है। बशा ने बताया कि उनके फैसले से उनके परिवार के दूसरे सभी लोग भी सहमत थे।

 

बशा ने कहा, ‘आज हम हैं, कल हम नहीं रहेंगे। हमारा जीवन अनिश्चितता से भरा है। ऐसे में एक-दूसरे के खिलाफ नफरत फैलाने से क्या मिलेगा।’

 

बहरहाल, जमीन मिलने के बाद श्री वीरांजनेयास्वामी देवालय सेवा ट्रस्ट ने मंदिर के पुनर्निमाण के काम को आगे बढ़ा दिया है। इसमें करीब एक करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

 

बशा के योगदान को बताने के लिए गांव वालों ने मेन रोड के करीब एक पोस्टर भी लगाया है।

 

साभार- लोकमत हिन्दी

This is unedited, unformatted feed from hindi.siasat.com – Visit Siasat for more

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: