National News

अमित शाह ने हैदराबाद का नाम बदलकर भाग्यनगर करने से किया इनकार!

अमित शाह ने हैदराबाद का नाम बदलकर भाग्यनगर करने से किया इनकार!

जैसा कि हैदराबाद ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) चुनावों के लिए तैयार है, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने मतदाताओं को लुभाने के लिए हिंदुत्व के रास्ते पर जाने के लिए कई प्रयास किए हैं।

 

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का शहर में अभियान विवादित भाग्यलक्ष्मी मंदिर की यात्रा के साथ शुरू हुआ, जो रविवार को चारमीनार में अनिवार्य रूप से अतिक्रमण है।

 

 

 

दिलचस्प बात यह है कि एक मीडिया इंटरेक्शन के दौरान शाह ने हैदराबाद का नाम बदलने के मुद्दे पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, जिसे एक दिन पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट उर्फ ​​योगी आदित्यनाथ ने लाया था।

 

“मैंने भाग्यलक्ष्मी देवी मंदिर में अपनी व्यक्तिगत आध्यात्मिकता के हिस्से के रूप में और देवी का आशीर्वाद लेने के लिए यात्रा की है। मैंने कहा कि मुझे एक भक्त के रूप में मंदिर में क्या कहना है और जाना है, कृपया इसे किसी और चीज के रूप में न लें, ”उन्होंने कहा।

 

गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि हैदराबाद को निजाम संस्कृति से मुक्ति मिलनी चाहिए। हम इससे मुक्ति दिलाएंगे और लोकतांत्रिक तरीके से शहर को आधुनिक बनाएंगे। उन्होंने यहां विपक्ष पर जमकर हमला बोला।

 

कहा, जब हम देश में अवैधरूप से रह रहे बांग्लादेशियों और रोहिंग्या पर कार्रवाई करते हैं तो विपक्ष हायतौबा और शोर मचाने लगता है। उन्होंने कहा कि आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआइएमआइएम) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी लिखकर दें कि इनको बाहर करो तो फिर देखिए केंद्र सरकार क्या कार्रवाई करती है।

 

हैदराबाद नगर निगम चुनाव प्रचार के अंतिम दिन ओवैसी के गढ़ में बोले गृह मंत्री

 

हैदराबाद नगर निगम चुनाव प्रचार के अंतिम दिन यहां एक रोड शो के बाद संवाददाता सम्मेलन में गृह मंत्री ने कहा कि जब भी संसद में या टीवी चैनलों में बांग्लादेशियों और रोहिंग्या के मामलों पर चर्चा होती है तो वे लोग उनका पक्ष लेने लगते हैं।

 

जनता सब जानती है। जब मैं कार्रवाई करता हूं तो वे संसद में चिल्लाने लगते हैं। क्या आपने इनको हायतौबा मचाते नहीं देखा। उनसे कहिए कि वे हमें लिखकर दें कि अवैधरूप से रह रहे इन लोगों को देश से बाहर करो तो मैं इसे करूंगा। चुनावों में केवल बयानबाजी से कुछ नहीं होता।

 

शाह ने यह बात ओवैसी के उस बयान के बाद कही जिसमें उन्होंने कहा था कि यदि रोहिंग्या अवैधरूप से रह रहे हैं तो गृह मंत्री कर क्या रहे हैं।

 

उन्होंने कहा कि सरदार पटेल के कारण हैदराबाद और आसपास के इलाके भारत के साथ जुड़े, लेकिन जिन्होंने उस दौरान पाकिस्तान जाने की मुहिम चलाई थी ऐसी निजाम संस्कृति से हम हैदराबाद को निजात दिलाना चाहते हैं।

 

शाह ने कहा, हम हैदराबाद को नवाब-निजाम कल्चर से मुक्त कराते हुए इसे आधुनिक शहर बनाना चाहते हैं। हैदराबाद को डाइनेस्टी से डेमोक्रेसी, भ्रष्टाचार से पारदर्शिता और तुष्टीकरण से विकास की ओर ले जाना चाहते हैं।

 

 

जागरण डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, उन्होंने कहा कि हैदराबाद में आइटी हब बनने की पूरी संभावना है। हम इसे आइटी हब बनाएंगे। अभी नगर निगम में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) तथा कांग्रेस का गठजोड़ इसमें सबसे बड़ी बाधा है। शाह ने विश्वास जताया कि इस बार शहर का मेयर भाजपा से होगा।

 

नगर निगम चुनाव प्रचार के अंतिम दिन रविवार को गृह मंत्री हैदराबाद पहुंचे और ओल्ड सिटी में भाग्यलक्ष्मी मंदिर में पूजा-अर्चना की। उन्होंने मंदिर में देवी मां की आरती भी की। इसके बाद शाह ने सिकंदराबाद के वारसीगुडा में रोड शो किया। इसमें लोगों की भारी भीड़ उमड़ी।

This is unedited, unformatted feed from hindi.siasat.com – Visit Siasat for more

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: