VIRAL SACH

Fact Check : पश्चिम बंगाल में ओवैसी की पार्टी के साथ भाजपा के गठबंधन का फेक ट्वीट वायरल

नई दिल्‍ली (Vishvas News)। पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में अभी भले ही वक्‍त हो, लेकिन सोशल मीडिया में इस चुनाव से जुडी फर्जी खबरें वायरल होना शुरू हो चुकी हैं। फेसबुक पर कुछ यूजर्स भाजपा के नाम से एक फेक ट्वीट को यह कहते हुए वायरल कर रहे हैं कि पश्चिम बंगाल के आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा AIMIM के साथ गठबंधन करेगी।

विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल पोस्‍ट की जांच की। हमारी पड़ताल में पता चला कि यह ट्वीट पूरी तरह फेक है। भाजपा ने ऐसा कोई भी ट्वीट नहीं किया है।

क्‍या हो रहा है वायरल
फेसबुक यूजर अनिल शर्मा ने 21 नवंबर को फेक ट्वीट को पोस्‍ट करते हुए लिखा: “जीतने के लिए किसी भी हद तक जाना पड़ेगा जरूर जाएंगे, पहले उन्हीं को लड़ाइयेगे फिर उन्हीं को आपस मे लाडवा देंगे, कोई रोजगार की तरफ ध्यान बिलकुल नहीं देगा.”

भाजपा के नाम से किए गए ट्वीट में लिखा गया : “We have formed alliance with AIMIM inupcoming WB elections.

पड़ताल
विश्‍वास न्‍यूज ने सबसे पहले वायरल हो रहे दावे की सच्‍चाई जानने के लिए गूगल में ‘ओवैसी और भाजपा का गठबंधन’ जैसे कीवर्ड टाइप करके खबरों को सर्च करना शुरू किया। हमें असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआइएमआइएम का भाजपा के साथ किसी भी प्रकार के गठबंधन से जुड़ी कोई खबर नहीं मिली, जबकि खबरों से यह जरूर पता चला कि असदुद्दीन ओवैसी ने ममता बनर्जी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की पेशकश की थी।

जागरण डॉट कॉम पर 19 नवंबर को पब्लिश खबर में बताया गया कि ओवैसी ने ममता के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन की पेशकश करते हुए कहा कि उनकी पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को हराने में तृणमूल कांग्रेस की मदद करेगी। पूरी खबर यहां पढ़ सकते हैं।

पड़ताल के अगले चरण में हमने भाजपा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल BJP4India को स्‍कैन करना शुरू किया। हमें पता चला कि वायरल ट्वीट जैसा कोई भी ट्वीट इस हैंडल से नहीं किया गया। 20 नवंबर को ही हमें भाजपा के ट्विटर हैंडल पर वह ट्वीट जरूर मिला, जिसमें भाजपा अध्‍यक्ष जेपी नडडा ओवेसी की पार्टी को समाज तोड़ने वाला बता रहे हैं। यह ट्वीट आप यहां देख सकते हैं।

भाजपा कभी भी कोई B टीम लेकर नहीं चलती है।

हम अपनी विचारधारा पर काम करते हैं।

हमारा मानना है कि चाहे ओवैसी जी की पार्टी हो या माले, ये सब समाज को दिक्कत देने वाले और तोड़ने वाले हैं।

विश्‍वास न्‍यूज ने फेक ट्वीट को लेकर भाजपा के प्रवक्‍ता तजिंदर पाल सिंह बग्‍गा से संपर्क किया। उन्‍होंने बताया कि वायरल ट्वीट में कोई सच्‍चाई नहीं है।

अंत में हमने फर्जी पोस्‍ट करने वाले यूजर की जांच की। हमें पता चला कि यूजर अनिल शर्मा नई दिल्‍ली में रहते हैं।

निष्कर्ष: विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में भाजपा के नाम से वायरल ट्वीट फर्जी निकला। भाजपा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस तरह का कोई ट्वीट नहीं किया गया।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
%d bloggers like this: