National News

15 अक्टूबर से सिनेमाघर होंगे अनलॉक, इन फिल्मों की रिलीज के साथ ऐसी होगी नई तस्वीर!

नई दिल्ली, । कोरोना वायरस पैनडेमिक की वजह से फिल्म इंडस्ट्री पर काफी बुरा असर पड़ा है। लंबे समय से देशभर के सिनेमाघर बंद हैं, जो 15 अक्टूबर से कुछ शर्तों के साथ खुलने जा रहे हैं। 15 अक्टूबर से भले ही सिनेमाघर खुलने वाले हैं, लेकिन इस बार सिनेमाघरों की तस्वीर एकदम नई होने वाली है। अब सिनेमाघरों में टिकट लेने की व्यवस्था से लेकर बैठने का अरेंजमेंट सब कुछ अलग होने वाला है। ऐसे में जानते हैं 15 अक्टूबर को जब सिनेमाघर खुलेंगे तो उनकी तस्वीर कैसी हो सकती है। सबसे पहले हम बताने जा रहे हैं कि कौन-कौन सी फिल्में रिलीज होने वाली हैं और क्या कुछ नया होगा…

कौन-कौन सी फिल्में होंगी रिलीज

15 अक्टूबर को सिनेमाघर शुरू होने के बाद सबसे पहले रिलीज होने वाली फिल्मों पर कई रिपोर्ट्स आ चुकी हैं। विवेक ओबेरॉय स्टारर फिल्म पीएम नरेंद्र मोदी दोबारा रिलीज होने वाली है, जो पिछले साल लोकसभा चुनाव के बाद रिलीज हुई थी। मेकर्स ने फैसला किया है कि अब यह फिल्म 15 अक्टूबर को एक बार फिर रिलीज की जाएगी।

इसके साथ ही ईशान खट्टर और अनन्या पांडे स्टारर फिल्म खाली पीली भी थियेटर खुलने के बाद रिलीज होने वाली पहली फिल्मों में से एक होगी। हालांकि, यह फिल्म ओटीटी प्लेटफॉर्म पर (Pay Per View के आधार पर) पहले ही रिलीज हो चुकी है। ड्राइव-इन थियेटर्स में भी खाली-पीली को रिलीज़ किया गया था। साथ ही बताया जा रहा है कि फिल्म इंदु की जवानी भी थियेटर रिलीज की स्थिति को ध्यान में रखते हुए बड़े पर्दे पर आ सकती है।

वहीं, फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर और सिनेमाघर के मालिक राज बंसल ने जागरण ऑनलाइन को बताया कि अभी सिनेमाघरों का प्रोग्राम तय नहीं हुआ है और कई फिल्मों पर बात की जा रही है। राज बंसल का कहना है कि अगर इस दौरान पुरानी हिट फिल्में जैसे- मुन्नाभाई एमबीबीएस, पीके, हेराफेरी, टाइगर श्रॉफ की फ़िल्में रिलीज की जाएं तो दर्शकों को फिर से सिनेमाघरों की ओर आकर्षित किया जा सकता है।

कैसी रहेगी बैठने की व्यवस्था

बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस के अनुसार, सिनेमाघर 50 प्रतिशत बुकिंग के साथ ही खोले जा सकते हैं। यानी सिनेमाघरों की कुल सीटों में से आधी सीटों के लिए ही टिकटों की बिक्री ही की जाएगी और 50 फीसदी सीटें खाली छोड़नी होंगी। साथ ही सरकार की ओर से कहा गया है कि ऐसे में सभी सिनेमाघरों को पहले ही सीटों में मार्किंग करनी होगी कि कहां बैठना है और कहां नहीं। ऐसे में दर्शक वहां आकर अपने हिसाब से तय नहीं करेंगे कि कहां बैठना है। पहले से व्यवस्था होने से दर्शकों के बीच असमंजस नहीं रहेगा।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
%d bloggers like this: