National News

रिया चक्रवर्ती को बॉम्बे हाई कोर्ट ने दी जमानत

रिया चक्रवर्ती को बॉम्बे हाई कोर्ट ने दी जमानत

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की जांच में सामने आए ड्रग्स मामले में गिरफ्तार रिया चक्रवर्ती को बॉम्बे हाई कोर्ट में जमानत दे दी है. इस मामले में रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने सिर्फ एक याचिकाकर्ता यानि रिया को ही जनामत दी है. बाकि इस मामले में फिलहाल किसी को भी जमानत नहीं दी गई है. ड्रग्स केस में रिया के भाई शोविक चक्रवर्ती, अब्दुल बासित परिहार, दीपेश सावंत और सैमुअल मिरांडा की जमानत अर्जी को कोर्ट ने खारिज कर दिया है. कोर्ट की कार्यवाही सुबह 11 बजे शुरु हुई और कोर्ट ने तुरन्त फैसला सुना दिया.

 

जस्टिस सारंग वी. कोतवाल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये फैसला सुनाया. इससे पहले 29 सितंबर को इस मामले की सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. वहीं मंगलवार को एनडीपीएस कोर्ट ने रिया, शोविक, सैमुएल, दीपेश, बासित परिहार और जैद की 14 दिनों की न्यायिक हिरासत 20 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा दी.

 

महीने भर बाद मिली जमानत

 

इससे पहले एनसीबी ने 8 सितंबर को रिया चक्रवर्ती को पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया था. रात हो जाने के चलते रिया को 8 सितंबर की रात एनसीबी के लॉकअप में ही गुजारनी पड़ी थी. इसके बाद अगले दिन 9 सितंबर को मुंबई की भायखला जेल भेज दिया गया था. लगभग 1 महीने से रिया चक्रवर्ती भायकला जेल में ही बंद है.

 

दो बार बढ़ी न्यायिक हिरासत

 

कोर्ट दो बार रिया की न्यायिक हिरासत बढ़ाई थी जिसके बाद अब रिया को जमानत दे दी गई है. निचली अदालत में बेल याचिका खारिज होने के बाद रिया, शोविक और मिरांडा सहित 5 लोगों ने बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.

 

ड्रग्स ट्रैफिकिंग और फाइनेंसिंग के आरोप

 

बेल पर सुनवाई के दौरान एनसीबी ने रिया और अन्य सभी सभी लोगो की बेल का पुरजोर विरोध किया था और कोर्ट में कहा था कि रिया न सिर्फ सुशांत तक ड्रग्स पहुंचाती थीं बल्कि वो अवैध ड्रग्स ट्रैफिकिंग और फाइनेंसिंग में भी शामिल थीं. ये एक पूरा सिंडिकेट है जो समाज के लिए भी खतरनाक है.

This is unedited, unformatted feed from hindi.siasat.com – Visit Siasat for more

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: