National News

पिता की कोरोना से मौत हुई तो बेटे का शव लेने से इंकार, तहसीलदार ने किया अंतिम संस्कार

भोपाल. कोरोना का संक्रमण जिंदगी पर ही नहीं, रिश्तों और जज़्बातों पर भी भारी पड़ रहा है. ये ऐसी बीमारी है जो जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी पीड़ित को अपनों से अलग कर रहा है. मध्य प्रदेश में कोरोना से एक बुज़ुर्ग की मौत हो गयी. संक्रमण की ऐसी दहशत कि बेटे ने पिता का शव लेने से इनकार कर दिया. चिट्ठी लिखकर प्रशासन को सूचना दी कि वो शव लेने में असमर्थ है. ऐसे में तहसीलदार गुलाब सिंह ने बेटे का फर्ज निभाया और पूरे रीति-रिवाज के साथ उनका अंतिम संस्कार किया.

रिश्तों में आए बदलाव का ये वाकया शुजालपुर का है. यहां रहने वाले प्रेम सिंह मेवाड़ा की 20 अप्रैल को कोरोना से संक्रमण के चलते मौत हो गई थी. वो भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती थे. यहां इलाज के दौरान उन्होंने आखिरी सांस ली. मौत के बाद उनका शव परिवारवालों के आने के इंतजार में मॉर्च्यूरी में रख दिया गया. लेकिन बेटे ने टका सा जवाब दे दिया. कहीं पिता के जरिए कोरोना का संक्रमण उसे ना हो जाए इस डर के कारण बेटे ने शव लेने से इनकार कर दिया. उसने प्रशासन के नाम चिट्ठी लिखकर पिता के साथ जुड़ी आखिरी डोर भी तोड़ दी. कह दिया कि पिता का क्रिया कर्म प्रशासन ही करेगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: