NANDED NEWS TODAY

अब कोरोना टेस्टिंग लैब नांदेड़ में : स्वामी रामानंद तीर्थ मराठवाड़ा यूनीवर्सिटी में ‘कोरोना लीबारटरी’ : दो घंटे में 384 नमूने जांच करने की सहूलत

नांदेड़ 7 अप्रैल (वर्क़ ताज़ा न्यूज़) स्वामी रामानंद तीर्थ ‘को रोना इन्फ़ैक्शन डेटेक्शन लीबारटरी का इंतिज़ाम मराठवाड़ा यूनीवर्सिटी में एक इनक्यूबेशन सैंटर में किया गया है। आने वाले दो तीन दिन में , सेंट्रल मैडीकल रिसर्च कौंसल आफ़ इंडिया (आई सी ऐम आर से मतलूबा मंज़ूरी हासिल हो जाएगीगी। इस के बाद , को रोना वाइरस के लिए होने वाले सवाब टैस्ट यहां शुरू किया जाएगा। लीबारटरी में एक वक़्त में दो घंटे में384 नमूनों की जांच करने की सहूलत होगी। महाराष्ट्रा में इस तरह की लीबारटरी बनाने वाली स्वामी रामानंद तीर्थ मराठवाड़ा यूनीवर्सिटी सबसे पहली यूनीवर्सिटी होगी

टेस्टिंग मशीन सेन्ट्रीफ्यूज

करूणा इन्फ़ैक्शन डेटेक्शन लीबारटरी क़ायम की गई है जो वज़ीर तामीरात-ए-आमा और सरपरस्त वज़ीर रियासत , मिस्टर अशोक राउ चौहान , यूनीवर्सिटी के वाइस चांसलर , डाक्टर अधूव भोसले , और कुलैक्टर , डाक्टर विपिन इतनकर का तआवुन में शामिल हैं

महाराष्ट्र में पहली यूनीवर्सिटी बनने का एज़ाज़

वाज़िह रहे कि इस से क़बल यूनीवर्सिटी के इनक्यूबेशन सैंटर के लिए रूस से5 करोड़ रुपय की माली इमदाद मिली थी। जिससे ऐसे जदीद आलात की दस्तयाबी अमल में आई। इस के इलावा , महाराष्ट्रा हुकूमत ने52 लाख रुपय की मंज़ूरी भी दी है। लीबारटरी में रीयल टाइम पी सी आर के जदीद आलात मौजूद हैं ये एक वक़्त में दो घंटे में384 को रोना इन्फ़ैक्शन सवाबSwab के नमूनों की जांच कर सकते हैं

इनक्यूबेशन सैंटर कोआर्डीनेटर डाक्टर जी जी ज़ोरे की रहनुमाई में लीबारटरी के नमूनों की जांच की जाएगी। यूनीवर्सिटी के बायो टैक्नोलोजी कम्पलैक्स में इज़ाफ़ी आलात इस्तिमाल होंगे। इस के लिए दरकार हुनरमंद और तजरबाकार अफ़रादी क़ुव्वत इनक्यूबेशन सैंटर में काम करने वाले ‘स्टार्ट उप अफ़राद में से मुंतख़ब की जाएगी। इस के इलावा तर्बीयत याफताह अफ़रादी क़ुव्वत भी भर्ती की जाएगी

चूँकि कौरवना एक मुतअद्दी बीमारी है , इस लिए एक मुकम्मल हिफ़ाज़ती इक़दामात किए जाऐंगे ताकि कोई भी इस लीबारटरी के100 मीटर अहाता में दाख़िल ना हो सके यहां सिर्फ तर्बीयत याफताह अमले को मुकम्मल तौर पर महफ़ूज़ लिबास तक रसाई दी जाएगी। इस लीबारटरी से मराठवाड़ा ज़िला और आस-पास के अज़ला को फ़ायदा होगा। जितनी जल्दी मुम्किन हो एक कोरोनरी मुश्तबा शख़्स के गले में स्याल झाड़ू की जांच की जाएगी। और कोरोनरी से मुतास्सिरा मरीज़ों का फ़ौरी ईलाज किया जा सकता है

टेस्टिंग मशीन अल्ट्रा लू टेम्परेचर फ़्रीज़र इंक्यूबेटर

इस लीबारटरी के क़ियाम के लिए यूनीवर्सिटी के वाइस चांसलर , डाक्टर अधूव भोसले की हिदायत पर , इनोवेशन , रिसर्च ऐंड इससटनस बोर्ड के डायरेक्टर , डाक्टर राजाराम माने , रोज़ा हरबोमडीसकेन् सैंटर के कोआर्डीनेटर , डाक्टर सीरगाओ शंडे , रजिस्ट्रार डाक्टर। हैं। डाक्टर मनमोहन बजाज की ख़ुसूसी रहनुमाई और मुआवनत , संदीप किले इस लीबारटरी के क़ियाम के लिए काम कर रहे हैं। ऐगज़ैक्टिव अंजीनर अरूण पाटल , डिप्टी कमिशनर अरूण धकडे और उनके तमाम साथी लीबारटरी के क़ियाम के लिए सख़्त मेहनत कर रहे हैं

फ्रेमवर्क आला और तकनीकी वज़ीर-ए-तालीम ने यूनीवर्सिटी की तारीफ़ की – यक्म अप्रैल , रियासत के आला और तकनीकी वज़ीर-ए-तालीम। ऊदे सामंत ने वीडीयो कान्फ़्रैंस के ज़रीये महाराष्ट्र की तमाम यूनीवर्सिटीयों के वाइस चांसलरज़ की वीडीयो कान्फ़्रैंस मीटिंग की थी। इस सिलसिले में , स्वामी रामानंद तरथा मराठवाड़ा यूनीवर्सिटी और वाइस चांसलर डाक्टर उधाव भोसले ने को रोना लीबारटरी के क़ियाम को सराहा। और दीगर यूनीवर्सिटीयों को भी इस ज़िमन में पहल करने की अपील की

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: