National News

सिर्फ़ लॉकडाउन से कोरोना वायरस पर काबू नहीं पाया जा सकता- WHO

सिर्फ़ लॉकडाउन से कोरोना वायरस पर काबू नहीं पाया जा सकता- WHO

एक तरफ बढ़ रहा कोरोना का कहर अब इतना बढ़ चुका है। कि हर तरफ केवल तवाही का मंज़र देखने को मिल रहा है। जंहा अब तक इस वायरस से मरने वालों कि संख्या 12000 से अधिक हो चुकी है।

 

 

 

न्यूज़ ट्रैक पर छपी खबर के अनुसार, वहीं अभी भी लोगों में इस वायरस का खौफ फैला हुआ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का मानना है कि कोरोना को हराने के लिए शहरों और देशों को लाकडाउन करने से ही काम नहीं चलेगा।

 

 

 

लाकडाउन के साथ जन स्वास्थ्य के पर्याप्त कदम उठाते रहने होंगे नहीं तो यह बीमारी फिर पनप सकती है। डब्लूएचओ के शीषर्ष इमरजेंसी एक्सपर्ट माइक रायन ने बीबीसी को दिये एक साक्षात्कार में कहा कि कोरोना से फैली बीमारी से निपटने के लिए देश सिर्फ लाकडाउन के भरोसे नहीं रह सकते हैं।

 

 

 

वहीं इस पर रायन ने कहा कि यह बीमारी दोबारा न पनपे इसके लिए जन स्वास्थ्य के सभी उपाय करने होंगे। हमें सबसे पहले कोरोना से बुरी तरह बीमार व संक्रमित हुए लोगों का पता करना है।

 

 

 

इनके संपर्क में कौन-कौन आया उनका भी पता करना होगाा। फिर इन सभी को आइसोलेट कर उनका ठीक से इलाज करना होगा। जंहा यह भी कहा जा रहा है कि खतरा तो लाकडाउन से भी है।

 

 

 

वहीं हम बता दें कि अगर अभी हम बीमार और संक्रमित लोगों का पता कर उनका इलाज शुरू नहीं करते तो लाकडाउन हटने की स्थिति में इस बीमारी से जूझ रहे लोगों की संख्या एकदम से बढ़ सकती है।

 

 

 

 

 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना के कारण ताइवान समेत कई देश डब्लूएचओ की आलोचना कर रहे हैं। ताइवान का कहना है कि डब्लूएचओ समय से इस संकट की चेतावनी देने में नाकाम रहा।

 

 

 

ताइवान का कहना है कि उसने वुहान से शुरू हुई इस संक्रामक बीमारी के बारे में डब्लूएचओ और अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियामक (IHR) को 31 दिसंबर को ही सावधान कर दिया है।

 

 

 

मालूम हो कि चीन द्वारा अपना हिस्सा बताये जाने की जिद के कारण ताइवान को डब्लूएचओ ने संगठन से बाहर कर रखा है। जंहा ताइवान के अधिकारियों का आरोप है कि सूचना मिलने के बाद भी डब्लूएचओ ने अन्य देशों को COVID-19 की भयावहता से आगाह नहीं कियाा।

 

 

 

वहीं WHO के प्रमुख टेड्रोस एडहैनम द्वारा चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की तारीफ करने की भी खूब आलोचना की जा रही है। टेड्रोस ने कहा था कि बीमारी से निपटने में जिनपिंग ने बहुत अच्छा काम किया।

This is unedited, unformatted feed from hindi.siasat.com – Visit Siasat for more

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: