National News

166 सालों में पहली बार बंद हुई भारतीय यात्री ट्रेनें, जानें ये क्यों जरूरी था

ये कई दिनों से माना जा रहा था कि दुनिया का चौथा बड़ा रेल नेटवर्क भारतीय रेलवे (Indian Railway) कोरोना वायरस (Corona Virus) से बचाव के लिए यात्री ट्रेनों का आपरेशन बंद कर सकता है. ऐसा ही हुआ है. 166 सालों में ये पहला मौका है जबकि भारतीय रेलवे ट्रेनों का संचालन बंद कर रहा है. ट्रेनों के पहिए थम जाएंगे.

भारतीय रेलवे रोज 20,000 से ज्यादा यात्री ट्रेनें संचालित करता है. ये ट्रेनें 31 मार्च तक थम जाएंगी. इन ट्रेनों से रोज करीब ढाई करोड़ लोग सफर करते हैं. केवल मुंबई की लोकल ट्रेनों से ही रोज 80 लाख लोग आते-जाते हैं.

भारतीय ट्रेनों से चूंकि बहुत बड़े पैमाने पर लोग यात्राएं करते हैं. इनमें भीड़ भी बहुत होती है. जो कोरोना वायरस के लिहाज से बड़ा खतरा है.

पिछले दो-तीन दिनों से ट्रेनों में फिर भीड़ बढ़ने लगी थी. घर लौटने वालों का स्टेशन पहुंचना शुरू गया था. ये इस बीमारी के फैलाव के लिहाज से नई समस्या को जन्म दे सकता था. हाल में ट्रेनों में कई कोरोना ग्रस्त लोगों को यात्रा करते हुए पकड़ा भी गया था. लिहाजा ये कदम उठाना जरूरी था.

अभी ये साफ नहीं है कि भारतीय रेलवे क्या छोटी दूरी की ट्रेनों का संचालन रोकेगा. लेकिन लंबी दूरी की सभी ट्रेनों रोक दी गई हैं. देश में लंबी दूरी की करीब 3500 ट्रेनें चलती हैं.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: