National News

भारत में फिलहाल कोरोना वायरस का माइल्ड वायरस का प्रकोप, कभी भी बदल सकता है स्‍वरूप

कोरोना वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन के फेज में पहुंचने से रोकने और ऐसी नौबत आने पर बड़ी संख्या में मरीजों के इलाज के इंतजाम में जुटे भारत के लिए राहत की बात यह है कि यहां कोरोना के अपेक्षाकृत माइल्ड वायरस का प्रकोप हुआ है।

यही कारण है कि भारत में अभी तक 321 कोरोना वायरस के मरीजों में एक की भी स्थिति गंभीर नहीं है, लेकिन वायरस लगातार अपना रूप बदलता है और वह कभी भी अपना चरम रूप अख्तियार कर सकता है। जाहिर है आइसीएमआर कोरोना वायरस के स्वरूप पर लगातार नजर रखे हुए है।
आइसीएमआर के डाक्टर रमन गंगाखेड़कर के अनुसार अभी तक देश के भीतर जिन कोरोना से पीड़ि‍त मरीजों के वायरस की जांच की गई है, वे अपेक्षाकृत माइल्ड श्रेणी के हैं। इसी कारण इन मरीजों में सामान्य बुखार और जुकाम के लक्षण ही देखने को मिले हैं। जाहिर है माइल्ड कोरोना वायरस से उतना खतरनाक नहीं होता है और बुखार व बदन-दर्द और सूखी खांसी जैसे सामान्य लक्षणों के इलाज से ही समय के साथ ठीक हो जाता है। दुनिया में 80 फीसदी से मरीज कोरोना के माइल्ड वायरस से ग्रसित हैं। यही कारण है इसका मृत्युदर कम है।

♨️Join Our Whatsapp 🪀 Group For Latest News on WhatsApp 🪀 ➡️Click here to Join♨️

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
%d bloggers like this: