International News In Hindi

अमरीका में कोरोना वायरस से बचाने वाले वैक्सीन का परीक्षण

अमरीका में कोरोना वायरस से बचाने वाले वैक्सीन के मानव परीक्षण की शुरुआत कर दी गई है.

समाचार एजेंसी एपी मुताबिक़, वॉशिंगटन में सिएटल की काइज़र परमानेंट रिसर्च फैसिलिटी में चार मरीज़ों को ये वैक्सीन दी गई है.इस वैक्सीन की वजह से कोविड 19 बीमारी नहीं हो सकती है लेकिन इसमें वायरस से निकाला गया एक हानिरहित जेनेटिक कोड है.

विशेषज्ञों के मुताबिक़, अभी ये तय करने में कई महीनों का वक़्त लगेगा कि ये वैक्सीन कामयाब होगी या नहीं.

वैक्सीन लेने वाला पहला इंसान कौन?

सिएटल की रहने वाली दो बच्चों की माँ 43 वर्षीय एक महिला को ये वैक्सीन दिया गया है.

इस महिला जेनिफ़र ने एपी से बात करते हुए कहा, “मेरे लिए ऐसा कुछ करना एक शानदार अवसर था.”

दुनिया भर में वैज्ञानिक इस शोध पर तेज़ी से काम कर रहे हैं.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ हेल्थ ने इस वैक्सीन पर चल रहे काम के लिए वित्तीय मदद दी है.

सामान्य तौर पर किसी भी वैक्सीन का पहला परीक्षण जानवरों पर किया जाता है, लेकिन इस बार इसका सीधा मानवीय परीक्षण किया गया है.

लेकिन मॉडेर्ना थेरेपटिक्स नाम की बायोटेक्नोलॉजी कंपनी कहती है कि इस वैक्सीन को ट्रायड और टेस्टेड प्रक्रिया के तहत तैयार किया गया है.

इंपीरियल कॉलेज लंदन में संक्रामक रोगों के विशेषज्ञ डॉ. जॉहन ट्रीगोनिंग ने कहा है, “इस वैक्सीन को पहले से मौजूद तकनीक से बनाया गया है. ये बेहद उच्च मानकों के साथ बनाई गई है जिन्हें हम मानते हैं कि कि वे मानवों के लिए सुरक्षित हैं और जिन लोगों को ये वैक्सीन दी जा रही है, उनकी सेहत पर हम बारीक़ निगाह बनाए हुए हैं.”

“ये सच है कि ये काफ़ी जल्दी हो रहा है. लेकिन ये हम वैज्ञानिकों के बीच जंग नहीं है बल्कि वायरस के ख़िलाफ़ जंग है. ये मानवता की भलाई के लिए किया जा रहा है.”

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: