National News

कोरोना के असर से पोल्ट्री उद्योग तबाही के कगार पर, अफवाह से लोगों के रोजगार पर संकट

कोरोना के असर से पोल्ट्री उद्योग तबाही के कगार पर, अफवाह से लोगों के रोजगार पर संकट

कोरोना वायरस (Coronavirus) जानलेवा तो साबित हो ही रहा है साथ ही यह उद्योग-धंधों को भी चौपट कर रहा है. सोमवार को कोरोना के असर से भारतीय शेयर मार्केट में बड़ी गिरावट देखने को मिली. शेयर मार्केट के साथ ऑटो इंडस्ट्री, मोबाइल फोन उद्योग भी बुरी तरह प्रभावति हो रहा है. इतना ही नहीं इसके असर से पोल्ट्री इंडस्ट्री (poultry industry) भी सबसे बुरे दौर से गुजर रही है.

चिकन से कोरोना वायरस फैलने की अफवाहों के कारण चिकन सस्ता हो गया है, लेकिन पोल्ट्री उद्योग और इससे संबंधित उद्योग तबाही के कगार पर आ गया है. पोल्ट्री उद्योग की तबाही के कारण पोल्ट्री उपकरण और फीड मुहैया करने वाले उद्योग भी प्रभावित हुए हैं.

कृषि अर्थशास्त्री और पॉल्ट्री फेडरेशन आफ इंडिया के एडवायजर विजय सरदाना ने बताया कि अफवाह के कारण कुक्कुट पालक किसानों की उत्पादन लागत जहां 80 रुपये है वहां उन्हें चिकन की कीमत 20 रुपये मिल रही है. उन्होंने बताया पोल्ट्री उद्योग देश में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से करीब दो करोड़ लोगों को रोजगार देता है, लेकिन चिकन से कोरोना वायरस फैलने की अफवाह के कारण पूरा उद्योग तबाह हो गया है जिससे इस उद्योग से जुड़ लोगों की आजीविका संकट में है.

कोरोना फैलने के डर के मारे लोग मांस, मछली, चिकन, अंडा खाने से परहेज करने लगे हैं जिससे चिकन की मांग कम हो गई है. बताया जाता है मांग कम होने से चिकन की थोक कीमत में 70 फीसदी की गिरावट आई है, वहीं, उपभोक्ताओं को जहां एक किलो चिकन के लिए 180-200 रुपये खर्च करने पड़ते थे वहां अब उनको 100-150 रुपये प्रति किलो चिकन मिल रहा है.

नोएडा के एक चिकन विक्रेता ने बताया कि उसकी खरीद इस समय प्रति चिकन 50-60 रुपये पड़ रही है जबकि वह 150 रुपये प्रति किलो तक बेचता है.

बिहार के मुजफ्फरपुर के एक उपभोक्ता ने बताया कि पहले जहां एक किलो चिकन के लिए तकरीबन 200 रुपये चुकाना पड़ता था वहां अब 100 रुपये प्रति किलो में भी चिकन लेने कोई नहीं आ रहा है.

केंद्रीय पशुपालन, डेयरी एवं मत्स्यपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने पिछले दिनों बताया कि मुर्गे से कोरोनावायरस फैलने की अफवाहों के चलते देश के पॉल्ट्री उद्योग पर काफी असर पड़ा है. बकौल गिरिराज सिंह उनको दक्षिण भारत से आने वाले एक सांसद ने बताया कि इससे पोल्ट्री उद्योग को रोजाना 1,500 से 2,000 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है.

वहीं, केंद्रीय पशुपालन एवं डेयरी राज्यमंत्री डॉ. संजीव कुमार बालियान की माने तो इस अफवाह के कारण चिकन के थोक भाव में 70 फीसदी तक की गिरावट आई है. उन्होंने बताया कि चिकन का भाव जहां 100 रुपये प्रति किलो चल रहा था, वहां अब घटकर 30 रुपये प्रति किलो पर आ गया है.

पोल्ट्री उद्योग को फीडिंग सिस्टम, मैनुअल फीडर, वाटर सिस्टम, ड्रिंकर हीटिंग सिस्टम, वेंटिलेटर आदि उपकरण मुहैया करवाने वाली कंपनी धूमल इंडस्ट्रीज के अधिकारी पुरुषोत्तम कौजलगी ने आईएएनएस को बताया कि कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद बीते एक महीने से उनके कारोबार पर काफी असर पड़ा है. उन्होंने बताया कि न तो किसी उपकरण की मांग आ रही है और न ही नये प्रोजेक्ट सामने आ रहे हैं, बल्कि पुराने प्रोजेक्ट ने भी फिलहाल काम बंद कर दिया है.

This post appeared first on The Siasat.com Source

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: